Taun Daaliyun Na Kaata


Lyrics: Taun Daaliyun Na Kaata 

Na kaataaaaaaaaaaaaa Taun daaliyunnn
Ba daaliyun na kaata, chucho daaliyun na kaata,
Taun daaliyunnn n kaata, deedo daaliyun na kaata

Na kaataaaaaaaaaaaaa Taun daaliyunnn
Ba daaliyun na kaata, chucho daaliyun na kaata,
Taun daaliyunnn n kaata, bhulo daaliyun na kaata

Daali kateli ta maati bagheli, na kudi na dokhri na pungdi bachali...2
Ghas lakhada na kheti hi raali, bhol teri aas aaulaad kya khaali
Na kaataaaaaaaaaaaaa Taun daaliyunnn
Ba daaliyun na kaata, chucho daaliyun na kaata,
Taun daaliyunnn n kaata, bhulo daaliyun na kaata

Dhara mangara pandera sukhala, na naula bhorela na choya phutala...2
Harchyalu gaadh gadhero ku paani, teesa lagali ubali kya kalya
Na kaataaaaaaaaaaaaa Taun daaliyunnn
Ba daaliyun na kaata, bhuliyon daaliyun na kaata,
Taun daaliyunnn n kaata, deediyun daaliyun na kaata

Gaudi bhainsiyun ku bhakhiriyun ku charu, jhapnyali daali chakhuluyun ku saru...2
Phool khilala na hairyali raali, duniya yun phadu ku thatta lagali
Na kaataaaaaaaaaaaaa Taun daaliyunnn
Ba daaliyun na kaata, chucho daaliyun na kaata,
Taun daaliyunnn n kaata, bhulo daaliyun na kaata

Saityaan yun daliyun tey naunihyaal jaani, pala yun daaliyun tey aulaad maani
Aulaad bhol ku rooth bhi jali, anaj aur daani yeh daali hi dyaali
Na kaataaaaaaaaaaaaa Taun daaliyunnn
Ba daaliyun na kaata, bhuliyon daaliyun na kaata,
Taun daaliyunnn n kaata, deediyun daaliyun na kaata

***

Janani Ku Mariyu Chaun


Lyrics: Janani Ku Mariyu Chaun

Darolya chaun na bhangulyaa, Bhanglada galyu chaun
Kai ma na bulyaan
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Janani ku mariyu chaun me
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Sainiyu ku mariyu chaun
Darolya chaun na bhangulyaa, Bhanglada galyu chaun
Kai ma na bulyaan

Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Janani ku mariyu chaun me
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Sainiyu ku mariyu chaun

Kan taun ki podi maar, Muchlauna damyu chaun me..2
Hathgyun ku bani peena, tanglyun kutyu chaun me
Sulataun ma thich thichein ki, Thwichani banyu chaun
Kai ma na bulyaan shhhhhhhhh...
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Janani ku mariyu chaun me
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Sainiyu ku mariyu chaun

Dwe bwo kari ee phuphu, Min kan jibaal kairi...2
Bhaklaunyun ma lu khuti, Achana ma mund dhaeri
Achana ma mund dhaeri, Baunhada pudyun chaun
Kai ma na bulyaan shhhhhhhhh...
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Janani ku mariyu chaun me
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Sainiyu ku mariyu chaun

Yun biralyun ki dauro, Muskulu lukyun raandu...2
Gaulma bandhi ch ghanduli, Bhagun ta pakde jaandu
Na murnnu chaun na bachnu, Adhmaru karyu chaun
Kai ma na bulyaan .. shhhhhhhhh
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Janani ku mariyu chaun me
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Sainiyu ku mariyu chaun

Ghar bano kaam mein ma, Chodi seyin raendina...2
Che ber chaa pilandu, Tab hod pharkadein
Yun chaa khaley khaley ki, chaa pati banyu chaun
Kai ma na bulyaan shhhhhhhhh...
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Janani ku mariyu chaun me
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Sainiyu ku mariyu chaun

Kuch bhaag che bhadaak, Kuch chakadetu ki chaal -2
Na ta syani kardu dwi ki, Na ta hounda jan ku haal
Ab aayi akaldaadh, Jab thaulya banyu cha
Kai ma na bulyaan shhhhhhhhh...
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Janani ku mariyu chaun me
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Sainiyu ku mariyu chaun

Jan maiku hwe sabu ku, Yani huiyaan baki baat...2
Ni pacheyaan gaun karaun, Tum khaewa paundein bhaat
Paundein khalaey khalaey ki karja ma dubyun chaun
Kai ma na bulyaan
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Janani ku mariyu chaun me
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Sainiyu ku mariyu chaun

Jugraaj rahya panditji, Kani khujini tumn naar
Yani tumhari bhi lagya chann, Meri mawasi lagi dhaar
Kan mantra padhin tumann, Soch ma podyun chaun
Kai ma na bulyaan shhhhhhhhh...
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Janani ku mariyu chaun me
Kai ma na bulyaan bhaijiyun, Sainiyu ku mariyu chaun
Janani ku mariyu chaun
Sainiyu ku mariyu chaun
Janani ku mariyu chaun

***

Pando Vaarta


Lyrics: Pando Vaarta

Heyyyy prakat hwe jana
Prakat hwe jana
Prakat hwe jana
Kunti mata, prakat hwe jana
Kunti mata hweli darmyali mata,
Bhookhon dekhi ann ni khanda,
Naango dekhi wastr ni landa.

Hey prakat hwe jana, panch bhai pandav,
Ransoor, ranveer
Prakat hwe jana, dharmraj Judhisthir
Dharm ka autari, nyay ka pujari, prakat hwe jana
Prakat hwe jana dhanurdhari Arjun,
Arjun ko gandeev, prakat hwe jana
Hey, prakat hwe jana mahabali Bhimsen,
Bhimsen ko bal, prakat hwe jana
Prakat hwe jana, Nakul Sahdev
Nakul ko bhala, Sahdev ki pati, prakat hwe janaaaaaaaaaaaaaaaa

Daubhayyyy Hastinapur ma bal Kauron ki chaupad bichayin cha,
Bada bada jodha maharathi mastak nawai ki baithya chan,
Kauron ki lalkarna suni Pando dharm sankat ma pudya chan,
Hey prabho hey parmeswara
Dyut krida ko yo kano dharm yudh cha,
Kano dharm sankat chaaaaaaaaaa…..

Khela panso, khela panso
Khela panso, khela panso
Bha re, khela panso, khela panso
Pandon, khela panso, khela panso
Hastinapur maja, khela panso
Lage naurata chaupada, khela panso
Hweli chandi ki chaupada, khela panso , khela panso
Be chana sobana ki goti, khela panso, khela panso
Chana sobana ki goti, khela panso, khela panso
Bha re, khela panso, khela panso
Pandon, khela panso, khela panso

Bha re ton paapi Kaurun na, khela panso
Dhairya adhara mi pansa, khela panso
Chalya anyau ki chala, khela panso
Chhal kapat ka daun, khela panso, khela panso,
Chhal kapat ka doun, khela panso, khela panso
Bha re, khela panso, khela panso
Pandon, khela panso, khela panso

Kano prapancha rachyu cha, khela panso
Paapi hey mama Sakuni, khela panso
Hwelyo jalyunma ko jaali, khela panso
Kapatyun ma ko kapati, khela panso, khela panso
Re kapatyun ma ko kapati, khela panso, khela panso
Bha re, khela panso, khela panso
Pandon, khela panso, khela panso

Aige Durjodhan raja, khela panso
Kaiki adayin ni landa, khela panso
Baithi gaeni Judhishthira, khela panso, khela panso
Dharm ka autari, khela panso, khela panso
Dharm ka autari khela panso, khela panso
Bha re, khela panso, khela panso
Be Pandon, khela panso, khela panso

Kauron ki tain chaupad chal ma
Pandav sakal rajpaath haar gaeni
Haar geni dhan ka darav
Haar geni Bhim, Arjun
Haar geni Nakul, Sahdev
Dharmraaj Judhisthiran aph tai bhi daun ma haareli
Ton ka daun ni purenieeeeeeeeee haaaaaaaaaaaan

Khela panso khela panso, khela panso, khela panso
Bha re, khela panso, khela panso
Pandon, khela panso, khela panso

Pailo pailu daun hari, khela panso
Pandon n dhan ki darav, khela panso
Dujo teejo daoun haare, khela panso
Sakala raaj path, khela panso, khela panso
Bai sakal raaj path, khela panso, khela panso
Bha re, khela panso, khela panso
Pandon, khela panso, khela panso

Lagya daun ma ka daun, khela panso
Chalya paso ma ka pasa, khela panso
Dhairyali ton pandon na, khela panso
Rani Dropada daun ma, khela panso , khela panso
Be Rani Dropada daun ma, khela panso , khela panso
Bha re, khela panso, khela panso
Be Pandon, khela panso, khela panso

Kan dann mann runda, khela panso
Daun hari wa Drupada, khela panso
Hey Dwarika nandana, khela panso, khela panso
Kani dhawadi lagonda, khela panso, khela panso
Be kani dhawadi lagonda, khela panso, khela panso
Bha re, khela panso, khela panso
Be Pandon, khela panso, khela panso

Wi daini dwarika ma, khela panso
Hola dwarika nandana, khela panso
Teri paiyedyun paraaj, khela panso
Tera gala ma baduli, khela panso , khela panso
Be tera gala ma baduli, khela panso khela panso
Bha re, khela panso, khela panso
Pandon, khela panso, khela panso

Sune Draupadai karuna, khela panso
Aige raududo dhaududo, khela panso
Hey Krishna bhagibana, khela panso
Raakhi drupada ki laaja, khela panso, khela panso
Be raakhi Drupada ki laaja, khela panso, khela panso
Bha re, khela panso, khela panso
Pandon, khela panso, khela panso
Bha re, khela panso, khela panso
Pandon, khela panso, khela panso
Bha re, khela panso, khela panso
Pandon, khela panso, khela panso
Bha re, khela panso, khela panso
Pandon, khela panso, khela panso

Garhwali Brahmin Surnames


History of Garhwali Brahmin Surnames

DevBhumiUttarakhand_Garhwali Brahmin Surnames
Garhwali Brahmin Surnames


मूल रूप से गढ़वाल में ब्राह्मण जातियां तीन हिस्सो में बांटी गई है :-


  1. सरोला 
  2. गंगाड़ी 
  3. नाना 

सरोला और गंगाड़ी 8 वीं और 9वीं शताब्दी के दौरान मैदानी भाग से उत्तराखंड आए थे। पवार शासक के राजपुरोहित के रूप में सरोला आये थे। 
गढ़वाल में आने के बाद सरोला और गंगाड़ी लोगो ने नाना गोत्र के ब्राह्मणों से शादी की।

सरोला ब्राह्मण के द्वारा बनाया गया भोजन सब लोग खा लेते है परंतु गंगाड़ी जाती का अधिकार केवल अपने सगे-सम्बन्धियो तक ही सिमित है।  

1. नौटियाल 

700 साल पहले टिहेरी से आकर तली चांदपुर में नौटी गाव में आकर बस गए !   

आप के आदि पुरष है नीलकंठ और देविदया, जो गौर ब्राहमण है।।

नौटियाल चांदपुर गढ़ी के राजा कनकपाल के साथ सम्वत 945 मै धर मालवा से आकर यहाँ बसी, इनके बसने के स्थान का नाम गोदी था जो बाद मैं नौटी नाम मैं परिवर्तित हो गया और यही से ये जाती नौटियाल नाम से प्रसिद हुई।

2.  डोभाल 

गढ़वाली ब्राह्मणों की प्रमुख शाखा गंगाडी ब्राह्मणों मैं डोभाल जाती सम्वत 945 मै संतोली कर्नाटक से आई मूलतः कान्यकुब्ज ब्रह्मण जाती थी।  

मूल पुरुष कर्णजीत डोभा गाँव मैं बसने से डोभाल कहलाये।  

गढ़वाल के पुराने राजपरिवार मैं भी इस जाती के लोग उचे पदों पे भी रहे है .

ये चोथोकी जातीय सरोलाओ की बराथोकी जातियों के सम्कक्ष थी जो नवी दसवी सदी के आसपास आई और चोथोकी कहलाई। 

3.  रतुड़ी

सरोला जाती की प्रमुख जाती रतूडी मूलत अद्यागौड़ ब्रह्मण है, जो गौड़ देश से सम्वत 980 मैं आये थे।

इनके मुल्पुरुष सत्यानन्द, राजबल सीला पट्टी के चांदपुर के समीप रतुडा गाँव मैं बसे थे और यही से ये रतूडी नाम से प्रसिद हुए।

इस जाती के लोगो का भी गढ़वाल नरेशों पर दबदबा लम्बे समय तक बरकरार रहा था।
गढ़वाल का सर्व प्रथम प्रमाणिक इतिहास लिखने का श्रेय इसी जाती के युग पुरुष टिहरी राजदरबार के वजीर पंडित हरीकृषण रतूडी को जाता है। 
रतुडा मैं माँ भगवती चण्डिका का प्रसिद्ध थान भी है।

4.  गैरोला 

आपका पैत्रिक गाव चांदपुर तैल पट्टी है।

आप के आदि पुरष है गयानन्द और विजयनन्द।।

5.  डिमरी 

आप दक्षिण से आकर पट्टी तली चांदपुर दिमार गाव में आकर बस गए

आप द्रविड़ ब्राह्मन है।।

6.  थपलियाल

आप 1100  साल पहीले पट्टी सीली चांदपुर के ग्राम थापली में आकर बस गए।

आप के आदी पुरुष जैचानद माईचंद और जैपाल, जो गौर ब्राहमण है।।

गढ़वाली ब्राह्मणों की बेहद खास जाती जिनकी आराध्य माँ ज्वाल्पा है।
इस जाती के विद्वानों की धाक चांदपुर गढ़ी, देवलगढ़ , श्रीनगर, और टिहरी राजदरबार मैं बराबर बनी रही थी।

थपलियाल अद्यागौड़ है जो गौड देश से सम्वत 980 में थापली गाँव में बसे और इसी नाम से उनकी जाती संज्ञा थपलियाल हुई।

ये जाती भी गढ़वाल के मूल बराथोकी सरोलाओ मैं से एक है।
नागपुर मैं थाला थपलियाल जाती का प्रसिद गाँव है, जहा के विद्वान आयुर्वेद के बडे सिद्ध ब्राह्मण थे।

7. बिजल्वाण

आपके आदि पुरूष है बीजो / बिज्जू। इन्ही के नाम पर ही इनकी जाती संज्ञा बिज्ल्वान हुई।

गढ़वाल की सरोला जाती मैं बिज्ल्वान एक प्रमुख जाती सज्ञा है, इनकी पूर्व जाती गौड़ थी जी 1100 के आसपास गढ़वाल के चांदपुर परगने मैं आई थी, और इस जाती का मूल स्थान वीरभूमि बंगाल मैं है।।

8. लखेड़ा

लगभग 1000 साल पहले कोलकत्ता के वीरभूमि से आकर उत्तराखंड में बसे।

उत्तराखंड के लगभग 70 गांवों में फैले लखेड़ा लोग एक ही पुरूष श्रद्धेय भानुवीर नारद जी की संतानें हैं। 

ये सरोला ब्राह्मण है।।

9. बहुगुणा

गढ़वाली ब्राह्मणों की प्रमुख शाखा गंगाडी ब्राह्मणों में बहुगुणा जाती सम्वत 980 में गौड़ बंगाल से आई मूलतः अद्यागौड़ जाती थी।

10. कोठियाल

सरोला जाती की यह एक प्रमुख शाखा है, जो चांदपुर मैं कोटी गाँव मैं आकर बसी थी और यहाँ बसने से ही कोठियाल जाती नाम से प्रसिद हुई।
इनकी मूल जाती गौड़ है।

चांदपुर गढ़ी के राजपरिवार द्वारा बाद मैं कोटी को सरोला मान्यता प्रदान की गयी थी। इस जाती के अधिकार क्षेत्र मैं बद्रीनाथ मंदिर की पूजा व्यवस्था मैं हक़ हकूक भी शामिल है।

11. उनियाल

839 . पू. जयानंद और विजयानंद नाम के दो चचेरे भाई (ओझा और झा) दरभंगा (मगध-बिहार) से  श्रीनगर,गढ़वाल में आये। वो मैथली ब्राह्मण थे।

प्रसिद्ध कवि विद्यापति और राजनीतिज्ञ / अर्थशास्त्री चाणक्य (कौटिल्य) उनके पूर्वजों में से एक थे।

उन्हें "ओनी" में जागिर दी गई थी, इसलिए ओझा और झा (दो अलग गोत्र - कश्यप और भारद्वाज) को एक जाति ओनियाल में बनी, जो बाद में उनियाल बन गई। 

माता भगवती सभी यूनियाल, ओजा, झा और द्रविड़ ब्राह्मणों के कुलदेवी हैं।

12. पैनुली / पैन्यूली 

पैनुली / पैन्यूली मूलतः गौड़ ब्रह्मण है। 

दक्षिन भारत से 1207 में मूल पुरुष ब्र्ह्मनाथ द्वारा पन्याला गाँव रमोली मैं बसने से इस जाती का नाम पैनुली / पैन्यूली प्रसिद हुआ। 

इस जाती के कई लोग श्रीनगर राजदरबार और टिहरी मैं उच्च पदों पर आसीन हुए। 

इस जाती के श्री परिपुरणा नन्द पैन्यूली 1971-1976 मैं टिहरी गढ़वाल के संसद भी रहे है।

13. ढौंडियाल

गढ़वाल नरेश राजा महिपती शाह द्वारा 14 और 15 वी सदी मैं चोथोकी वर्ग मैं वृद्धि करते हुए 32 अन्य जातियों को इस वर्ग मैं सामिल किया था जिनमे ढौंडियाल प्रमुख जाती थी। 

इस जाती के मूल पुरुष गौड़ जाती के ब्राहमण थे जो राजपुताना से गढ़वाल सम्वत 1713 मैं गढ़वाल आये थे।  

मूल पुरुष पंडित रूपचंद द्वारा ढोण्ड गाँव बसाया गया था, जिस कारण इन्हें ढौंडियाल कहा गया। 

14. नौडियाल

मूलतः गढ़वाली गंगाडी ब्रह्मण जिनकी पूर्व जाती संज्ञा गौड़ थी। 

मूल स्थान भृंग चिरंग से सम्वत 1543 में आये पंडित शशिधर द्वारा नोडी गाँव बसाया गया था। 

नोडी गाँव के नाम पर ही इस जाती को नौडियाल कहा गया। 

15. पोखरियाल

मूलतः गौड़ ब्रह्मण है इनकी पूर्व जाती सज्ञा विल्हित थी जो संवत 1678 में विलहित से आने के कारण हुई।

इस जाती के मूल पुरुष जो पहले विलहित और बाद मैं पोखरी गाँव जिला पौडी गढ़वाल बसने से पोखरियाल प्रसिद हुए।

इस जाती नाम की कुछ ब्रह्मण जातीय हिन्दू राष्ट्र नेपाल मैं भी है जो प्रसिद शिव मंदिर पशुपति नाथ मैं पूजाधिकारी भी है।

ये जाती गढ़वाल मैं पौडी के अतिरिक्त चमोली मैं भी बसी हुई है , टेहरी मैं इसी जाती नाम से राजपूत जाती भी है, जो सम्भवतः किसी पुराने गढ़ के कारण पड़ी हुई हो।

16. सकलानी

गढ़वाल नरेशों द्वारा मुआफी के हक़दार भारद्वाज कान्यकुब्ज ब्राह्मणों की यह शाखा सम्वत 1700 के आसपास अवध से सकलाना गाँव मैं बसी।

इनके मूल पुरुष नाग देव ने सकलाना गाँव बसाया था, बाद मैं इस जाती के नाम पर इस पट्टी का नाम सकलाना पड़ा।

राज पुरोहितो की यह जाती अपने स्वाभिमानी स्वभाव के कारन राजा द्वारा विशेष सुविधाओ से आरक्षित किये गये थे और जागीरदारी भी प्रदान की गयी।

17. चमोली

मूल रूप से दरविड़ ब्राह्मण है जो रामनाथ विल्हित से 924 में आकर गढ़वाल के चांदपुर परगने मै चमोली गाँव में बसे। 

सरोलाओ की एक पर्मुख जाती जो मूल रूप से चमोली गाँव में बसने से अस्तित्व में आई थी जिसे पंडित धरनी धर, हरमी, विरमी ने बसाया था और गाँव के नाम पर ही ये जाती चमोली कहलाई। 

ये जाती सरोलाओ के सुपरसिद बारह थोकि में से एक प्रमुख है जो नंदा देवी राजजात में प्रमुख भूमिका निभाती है।

18. काला

गढ़वाल की यह वह प्रसिद जाती है जिसने आजादी के बाद सबसे अछि प्रगति की है। 

इस जाती मैं अभी तक सबसे अधिक प्रथम श्रेणी के अधिकार मोजूद है। 

सुमाडी इस जाती का सबसे अधिक प्रसिद गाँव है.जहा के "पन्थ्या दादा" एक महान इतिहास पुरुष हुए है। 

19. पांथरी

मूलतः सारस्वत ब्राहमण जो सम्वत 1543 में जालन्धर से आकर गढ़वाल मैं पंथर गाँव मैं बसे और पांथरी जाती नाम से प्रसिद हुए। 

इस जाती के मूल पुरुष अन्थु पन्थराम ने ही पंथर गाँव बसाया था। 

20. खंडूरी/ खंडूड़ी

सरोलाओ की बारह थोकी जातियों मैं से एक खंडूरी मूलतः गौड़ ब्रह्मण है, जिनका आगमन सम्वत 945 में वीरभूमि बंगाल से हुआ। 

इनके मूल पुरुष सारन्धर एवं महेश्वर खंडूड़ी गाँव मैं बसे और खंडूड़ी जाती नाम से प्रसिद हुए। 

इस जाती के अनेक वंसज गढ़वाल राज्य मैं दीवान एवं कानूनगो के पदों पर भी रहे। 
बाद में राजा द्वारा इन्हें थोक्दारी दे कर गढ़वाल के विभिन्न गाँव को जागीर मैं दे दिया था। 

21. सती

गढ़वाल की सरोला जाती मैं से एक सती गुजरात से आई ब्रह्मण जाती है, जो चांदपुर गाधी के सशको के निमंत्रण पर चांदपुर और कपीरी पट्टी मैं बसी थी।  

इस जाती की एक सखा नोनी/ नवानी भी है। 
इस जाती नाम के ब्राहमण गढ़वाल के कई कोनो मैं फ़ले है, यहाँ तक की इस जाती के कुछ ब्राहमण कुमायु मैं भी है। 

22. कंडवाल

मूलतः सरोला जाती है जो कांडा गाँव मैं बसने से कंडवाल कहलाई है। 

गढ़वाल के इतिहास मैं क्रमांक 19 से 26 तक की कुल आठ जातीय सरोला सूचि मैं सामिल की गयी है जिनमे कंडवाल जाती भी है। 

कंडवाल जाती मूलतः कुमयुनी जाती है। जो कांडई नामक गाँव से यहाँ चांदपुर मैं सबसे पहले आकर बसी थी, जिनके मुल्पुरुष का नाम आग्मानंद था। 

नागपुर की एक प्रसिद जाती कांडपाल भी इससे अपना सम्बन्ध बताती है। जिनके अनुसार( कांडपाल) का मूल गाँव कांडई आज भी अल्मोडा मैं है जहा के ये मूलतः कान्यकुब्ज (भारद्वाज गोत्री) कांडपाल वंसज है। 

यही कुमायु से सन 1343 में श्रीकंठ नाम के विद्वान से निगमानंद और आगमानद ने कांडपाल वंश को यहाँ बसाया था, जिनमे से एक भाई चांदपुर में बस गया और राजा द्वारा इन्हें ही सरोला मान्यता प्रदान कर दी गयी और चांदपुर में ये लोग कंडवाल नाम से प्रसिद हुए। 

इसी जाती के दुसरे स्कन्ध में से निगमानद ने 1400 में कांडई गाँव बसाया था, कांडई में बसने से इन्हें कंडयाल भी कहा गया, जो बाद मैं अपने मूल जाती नाम कांडपाल से प्रसिद हुआ। 

 23. ममगाईं

मूलतः गौड़ ब्रह्मण है जो उज्जैन से आकर मामा के गाँव मैं बसने से ममगाईं कहलाये थे। 

ये जाती मूलतः पौडी जिले की है लेकिन टिहरी और उत्तरकाशी और रुद्र्पर्याग जिले मैं भी इस जाती के गाँव बसे है। 

महाराष्ट्र मूल के होने से वाह भी इस जाती के कुछ लोग रहते है। नागपुर मैं भी इस जाती के कुछ परिवार बसे है, जिनके रिश्ते नाते टिहरी और श्रीनगर के ब्राह्मणों से होते है। 

24. भट्ट

भट्ट सामन्यता एक विशेष जाती संज्ञा है जिसका आशय प्रसिदी और विद्वता से है। 

सामान्यतः ये एक प्रकार की उपाधि थी जो राजाओ द्वारा प्रदत होती थी, गढ़वाल की अन्य जाती सज्ञाओ के अनुरूप ये उपाधि भी बाद में जातिनाम में बदल गयी, कुछ लोग इनका मूल भट्ट ही मानते है। 

गढ़वाल मैं भट्ट जाती सबसे अधिक प्रसार वाली जाती संज्ञा है। ये सभी स्वयं को दक्षिन वंशी मानते है। 

कालांतर में इनमे से अनेक ने आपने नए जाती नाम भी रखे है, भट्ट ही एक मात्र जाती है जो गढ़वाल में सरोला सूचि, गागाड़ी सूचि और नागपुरी सूची में शामिल की गयी है। 

25. पन्त

भारद्वाज गोत्रीय ब्राहमण है, जिनके मूल पुरुष जयदेव पन्त का कोकण महाराष्ट्र से 10 वी सदी में चंद राजाओ के साथ कुमाऊँ में आगमन हुआ। 

इनके वंसज शर्मा श्रीनाथ नाथू एवं भावदास के नाम भी चार थोको मैं विभाजित हुए, ये ही बाद में मूल कुमाउनी ब्राह्मण जाती पन्त हुई। 

बाद मैं अल्मोडा, उप्रडा, कुंलता, बरसायत, बड़ाउ, म्लेरा में बसे शर्मा पन्त, श्रीनाथ पन्त, परासरी पन्त, और हटवाल पन्त, प्रमुख फाट बने। 
ये सभी कुमाउनी पन्त थे, बाद में इसी जाती के कुछ परिवार गढ़वाल के विभिन्न इलाको में बसे, विद्वान और ज्योतिष के क्षेत्र मैं उलेखनीय कार्यो ने यहाँ भी इन्हें उच्च स्तर तक पहुचा दिया। 

पन्त जाती का नागपुर में प्रसिद गाँव कुणजेटी है। ये नागपुर के 24 मठ मंदिरों मैं आचार्य वरण के अधिकारी है। 

26. बर्थवाल/बड़थ्वाल

मूलतः सारस्वत ब्राहमण है, जो संवत 1543 में गुजरात से आकर गढ़वाल में बसे। 

इस जाती के मूल पुरुष पंडित सूर्य कमल मुरारी, बेड्थ नामक गाँव में बसे और बाद मैं जिनके वंसज बर्थवाल/बड़थ्वाल जाती नाम से प्रसिद हुए। 

27. कुकरेती

मूलतः द्रविड़ ब्रह्मण है, जो विल्हित नामक स्थान से आकर सम्वत 1352 में गढ़वाल मैं आये थे। 

इनके मुल्पुरुष गुरुपती कुकरकाटा गाँव मैं बसे थे, यही से कुकरेती नाम से प्रसिद हुए। 

28. अन्थ्वाल

मूलतः सारस्वत ब्रह्मण.संवत 1555 में पंजाब से गढ़वाल में आगमन हुआ। 

मूल पुरुष पंडित रामदेव अणेथ गाँव पौडी जिले मैं बसे, यही से इनकी जाती संज्ञा अन्थ्वाल/ अणथ्वाल हुई। इसी जाती के भै-बंध वर्तमान में श्री ज्वाल्पा धाम में भी ब्रह्मण है। 

नागपुर में ऋषि जमदग्नि के प्रसिद गाँव जामु में भी अन्थ्वाल/ अणथ्वाल जाती के लोग रहते है। 

अन्थ्वाल/ अणथ्वाल जाती मूलतः गंधार अफगानिस्तान से आई ब्राह्मणों की पुराणी जाती है। .इसी दौर में इरान अफगानिस्तान से आई अनेक ब्रह्मण जातियों मैं मग जाती के ब्रह्मण के साथ ये भी थे। 

अन्थ्वाल/ अणथ्वाल नाम की एक जाती लाहौर वर्तमान पाकिस्तान में भी रहती है, जो वहा के हिन्दू मंदिरों की पूजा सम्पन्न भी कराते है। 

29. बेंजवाल

बेंजी गाँव अगस्त्यमुनि से मन्दाकिनी के वाम परश्वा पर लगभग 3 किलोमीटर की खड़ी चढाई के बाद यह गाँव आता है। बेंजी शब्द विजयजित का अपभ्रंस है जिसका आशय विजय से था। 

बीजमठ महाराष्ट्र से आये मूलतः कान्यकुब्ज ब्राह्मणों का यहाँ गाँव 11 वी सदी के आस पास बसा था, जिनके मूल पुरुष का नाम पंडित देवसपति था, जो की मुनि अगस्त्य के पुराने आश्रम पुरानादेवल के पास बामनकोटि मैं बसे थे। 

यही से भगवान अगस्त्य की समस्त पूजा अधिकार इस जाती के पास सम्मिलित हुए। जिसके प्रमाण में इस जाती के पास भगवान अगस्त्य से जुडा प्राचीन अगस्त्य कवच मजूद है। 

बामनकोटि से से पंडित देवसपति के वंसज किर्तदेव और बामदेव ने बेंजी गाँव को बसाया था। बेंजी के नाम पर इन्हें बिजाल/बेंजवाल कहा गया। 

प्रसिद इतिहासकार एटकिन्सन ने हिमालयन गजेटियर मैं इस जाती वर्णन किया है। बेंजी गाँव के नाम पर ही इनकी जाती संज्ञा बेंजवाल हुई, ये ब्राहमण वंसज अगस्त्य ऋषि के साथ आये 64 गोत्रीय ब्राह्मणों मैं से एक थे। साथ ही भगवान अगस्त्य से जुड़े 24 प्रमुख मंदिरों मैं ये पूरब चरण के अधिकारी है ब्रह्मण भी है। 

30. पुरोहित

पुरोहितो का आगमन 1663 में जम्मू कश्मीर से हुआ था। ये जम्मू कश्मीर राजपरिवार के कुल पुरोहित थे। राजा के यहाँ पोरिह्त्य कार्य करने से पुरोहित नाम से प्रसिद हुए। 

इनके पहले गाँव दसोली कोठा बधाण बसे, जहा से बाद में 1750 में ये नागपुर पट्टी में भी बसे।

31. नैथानी

मूलरूप से कान्यकुब्ज ब्राह्मण है जो की सम्वत 1200 कन्नौज से गढ़वाल में आये। 

आपके मूलपुरुष कर्णदेव, इंद्रपाल नैथाना गाँव, गढ़वाल में आकर बसे। 


श्री भुवनेश्वरी सिद्धपीठ (मन्दिर) का प्रबन्ध एवं व्यवस्था नैथानी जाति के लोग देखते हैं।

Tero Machoi Gad Bagige


Video: Tero Machoi Gad Bagige


Lyrics: Tero Machoi Gad Bagige (Hindi)

रामा केसैट व अनिल बिष्ट द्वारा निर्देशित तथा श्री नरेन्द्र सिंह नेगी द्वारा गाया नौछमी नरेणा से लगया गया ये सुन्दर गीत.........मछोई यनि कि मछली पकड़ने वाला बरसाती नदी में बह.गया है तब गाँव वाले उसकी पत्नी को उलहना देते हुए कहते हैं।.......


तेरो मछोई गाड बगी गे ,ले खाले अब का माछा
तेरो मछोई गाड बगी गे,ले खाले अब का माछा
माछा का बाना मैसाख बिणाश, ले खाले अब का माछा
तेरो मछोई गाड बगी गे,ले खाले अब का माछा
तेरो मछोई गाड बगी गे,ले खाले अब का माछा
माछ क झोल मा गेंन्दूली भात,बिना मछलोणी गल नी जान्द
माछ क झोल मा गेंन्दूली भात,बिना मछलोणी गल नी जान्द
टपक्या जीभ कू नैथी कक जाण,ले खालेअब का माछा
टपक्या जीभ कू नैथी कक जाण,ले खाले अब का माछा
तेरो मछोई गाड बगी गे ,ले खाले अब का माछा
तेरो मछोई गाड बगी गे,ले खाले अब का माछा
गाड गदनया घाट घटयूड़,काल बसक्याल भारी मटयूड़
गाड गदनया घाट घटयूड़,काल बसक्याल भारी मटयूड़
लगी मछोई माछो की रोड़ी,ले खाले अब का माछा
लगी मछोई माछो की रोड़ी,ले खाले अब का माछा
तेरो मछोई गाड बगी गे,ले खाले अब का माछा
तेरो मछोई गाड बगी गे, ले खाले अब का माछा
माछू कू भरयूऔत देखी की,चढ़दी मेढ़ू मा जाल फैंकी की
माछू कू भरयू, औत देखी की,चढ़दी मेढ़ू मा जाल फैंकी की
बैठी ग्याई गाड का छाल मछोई,ले खाले अब का माछा
बैठी ग्याई गाड का छाल मछोई,ले खाले अब का माछा
तेरो मछोई गाड बगी गे,ले खाले अब का माछा
तेरो मछोई गाड बगी गे ,ले खाले अब का माछा
सौण भादों क बसक्याल मेणाअदरया गदरया बगदी रेणा
सौण भादों क बसक्याल मेणा,अदरया गदरया  बगदी
रेणा
आय छलार बगी ग्याई मछोई,ले खाले अब का माछा
आय छलार बगी ग्याई मछोई,ले खाले अब का माछा
तेरो मछोई गाड बग गे,ले खाले अब का माछा
तेरो मछोई गाड बगी गे ,ले खाले अब का माछा
तेरो मछोई गाड बगी गे,ले खाले अब का माछा
तेरो मछोई गाड बगी गे,ले खाले अब का माछा
माछा का बाना मैसाख बिणाश ले,खाले अब का माछा
माछा का बाना मैसाख बिणाश ले,खालेअब का माछा
तेरो मछोई गाड बगी गे,ले खाले अब का माछा
तेरो मछोई गाड बगी गे,ले खाले अब का माछा
तेरो मछोई गाड बगी गे,ले खाले अब का माछा
तेरो मछोई गाड बगी गे,ले खाले अब का माछा

             ......................................

MP3: Tero Machoi Gad Bagige

Bhalu Laghdu Bhanuli



Video: Bhalu Laghdu Bhanuli

Lyrics: Bhalu Laghdu Bhanuli (Hindi)

एलबम:नौछमी नरैणा श्री नरेन्द्र सिंह नेगी एवम् श्रीमति मीना राणा
द्वारा गाया गया एक सुन्दर गीत जिसमें प्रेमी मोहन प्रेयसी भनूली
से कहता है.........
Bhalu Laghdu Bhanuli_DevBhumiUttarakhand
Bhalu Laghdu Bhanuli

भलु लगदू भनूली तेरो मठू मठू हिटेणु  ,हे भलु लगदू
भलु लगदू भनूली तेरो मठू मठू हिटेणु ,हे भलु लगदू
हिटेणू ऐथर हेरणू पेथर हरकणू फरकणू ओ..ओ..ओ
भलु लगदू मोहना तेरो हंसी हंसी बचणू रे भलु लगदू
भलु लगदू मोहना तेरो हंसी हंसी बचणू रे भलु लगदू
हँसणू हँसाणू मयलु बचन छुँइयूँ मा अलझाणूओ..ओ..ओ..ओ भलु लगदू हे भलु लगदू
भलु लगदू मोहना तेरो हँसी हँसी बचणू रे भलु लगदू
हथ थमली थमली कू बेडू हथ थमली थमली कू बेडू
तेरी करयली हिटेई भनूली करी गेइ गोरी जिकूड़ी मा छेदू तेरी करयली हिटेई भनूली करी गेई गोरी जिकूड़ी मा छेदू
हिटेणु ऐथर हेरेणु पेथर हरकणू फरकणू भल लगदू भल लगदू
भलु लगदू मोहना तेरो हँसी हँसी बचणू रे भलु लगदू
भलु लगदू भनूली तेरो मठु मठु हिटेणु,हे भलु लगदू
खाई ककड़ी ककड़ी मा लूण खाई ककड़ी ककड़ी मा लूण
मोहना तेरी छुँइयूँ मा रेजी क मीन न घर की न बण की रैण
मोहना तेरी छुँइयूँ मा रेजीक मीन न घर की रैण न बण की रैण
हँसणू हँसाणू मयलू बचण छुँइयूँ मा अलझाणू भलु लगदू भलु लगदू
भलु लगदू भनूली तेरो मठु मठु हिटेणु हे भल लगदू
भलु लगदू मोहना तेरोहँसी हँसी बचणू रे भलु लगदू
सयोन्दू सेन्द्यूर  सेन्द्यूर की बेन्दी सयोन्दू सेन्द्यूर सेन्द्यूर क बेन्दी
भनूली ब्याली तीन सेवा नी ल्याई भनूली आज हुँगर नी देन्दी
भनूली ब्यली तीन सेवा नी ल्याई भनूली आज हुँगर नी देन्दी
हिटेणु ऐथर हेरेणु पेथर हरकणु फरकणु भलु लगदू
भलु लगदू मोहना तेरो हँसी हँसी बचणू रे भलु लगदू
भलु लगदू भनूली तेरो मठु मठु हिटेणु हे भलु लगदू
भलु लगदू भनूली तेरो मठु मठु हिटेणु हे भलु लगदू
भरी गागर गागर मा पाणी भरी गागर गागर मा पाणी
गौं क बाटों घाटों मा मोहना लम्बी लम्बी धवणी नी लाणी
गौ क बाटों घाटों मा मोहना लम्बी लम्बी धवणी नी लाणी
हँसणू हँसाणू मयलु बचण छुँइयूँ मा अलझाणू भलु लगदू
भलु लगदू भनूली तेरो मठु मठु हिटेणु हे भलु लगदू
भल लगदू मोहना तेरो हँसी हँसी बचणू रे भलु लगदू
खाई नारंगी नारंगी की दाणी खाई नारंगी नारंगी की दाणी
भनूली म्यार हिया मा तू छेई त्यार हिया मा कु होलु कु जाणी
भनूली म्यार हिया मा तू छेई त्यार हिया मा कु होलु कु जाणी
हिटेणु ऐथर हेरेणु पेथर हरकणु फरकणु भलु लगदू
भलु लगदू मोहना तेरो हँसी हँसी बचणू रे भलु लगदू
भलु लगदू भनूली तेरो मठु मठु हिटेणु हे भलु लगदू
हल निसुड़ निसुड़ क बाण हल निसुड़ निसुड़ क बाण
मेरी दुपेर की धाणी छुटदी मोहना रात सियों मा नी आण
मेरी दुपेर की धाणी छुटदी मोहना रात सियों मा नी आण
हँसणू हँसाणू मयलु बचण रे भलु लगदू
भलु लगदू भनूली तेरो मठु मठु हिटेणु हे भलु लगदू
भलु लगदू मोहना तेरो हँसी हँसी बचणू रे भलु लगदू
भलु लगदू भनूली तेरो मठु मठु हिटेणु हे भलु लगदू
                 
                           * * *

MP3: Bhalu Laghdu Bhanuli

Free Music - Share Audio -

Rock And Roll In Hindi

Video: Rock And Roll

Lyrics: Rock And Roll (Hindi)

माननीय श्री नरेन्द्र सिंह द्वारा रचित और गाये हुए इस गढ़वाली गाने में गाँव के ताऊ आजकल के लड़कों से जिन्हे अंग्रेजी गाने और उनकी धुन पर नाचना पसंद है उन्हें प्यार से झिड़कते हुए कहते हैं......... 

Rock And Roll_DevBhumiUttarakhand
Rock And Roll
 

नय जमाना क  छवारौं कन उठी बौल 
तिबरी डड्ल्यूँ मा रौक एण्ड रौल 
नय जमाना क छवारौं कन उठी बौल 
तिबरी डड्ल्यूँ मा रौक एण्ड रौल 
रौक एण्ड रौल बोड़ा रौक एण्ड रौल 
तिबरी डडल्यूँ छज्जा दुरपल्यूँ मा                     
उबरी बौण्ड मच्यूँ  रौल मा खौल                                                                               
बोड़ा रौक एण्ड रौछुँई ना करौल 
रौक एण्ड रौल बोड़ा रौक एण्ड रौल 
पुरण जमाना की छुँई ना करौल 
हे माटू खण्डे ग्याई मेरी डिड्ल्यूँ कू 
डिस्को च डिस्को दिखदी जा तू 
पटलू रड़ी ग्याई मेरी दुरपल्यू कू 
डोन्ट वरी अंकल पोप च यू 
मेरी घरी कूड़ी उनी लगा याली जोल 
तिबरी डड्ल्यूँ मा रौक एण्ड रौल 
नय जमाना क छवारौं कन उठी बौल 
तिबरी डड्ल्यूँ मा रौक एण्ड रौल 
रौक एण्ड बोड़ा रौक एण्ड रौल 
अपण जमाना की छुँई ना करौल 
रौक एण्ड रौल बोड़ा रौक एण्ड रौल 
पुरण जमाना की छुँई ना करौल 
फुट गे रे फुट गे भीतर कपाल 
फिक्र नाट बोड़ा लैन्टर डाल 
टुट गे रे टुट गे म्यार मोर सिंगार 
अरे लगा अंग्रेजी जमना क नय द्वार 
नात्त नत्तेणया झसक्यणी लगनी झोल 
तिबरी डड्ल्यूँ रौक एण्ड रौल 
नय जमना क छवारौं कन उठी बौल 
तिबरी डड्ल्यूँ मा रौक एण्ड रौल                     
रौक एण्ड रौल बोड़ा रौक एण्ड रौल 
अपण जमना की छुँई ना करौल 
रौक एण्ड बोड़ा रौक एण्ड रौल 
पुरण जमना की छुँई ना करौल 
रंग न ढंग व्यापारू कू आज 
वरमाला वीडियो कू चल्यूँ रिवाज 
माँगल न वेदी न धूली अरज 
बैठ बोड़ा हट फण्डय सरक 
चौपत झाँझर थड़े हवै्गीन गोल 
तिबरी डड्ल्यूँ मा रौक एण्ड रौल 
नय जमना क छवारौं कन उठी बौल 
रौक एण्ड रौल बोड़ा रौक एण्ड रौल 
अपण जमना की छुँई ना करौल 
रौक एण्ड रौल बोड़ा रौक एण्ड रौल 
पुरण जमना की छुँई ना करौल 
ढोल दमऊँ तुरई कक हरची 
बैण्ड मँगयू दाजू रूपया खरची                                   
पण्डव नाच राजधिरास मण्डान 
दिखदी जा तू हमून पोप लगाण 
फैल ग्यी लुटरी तैल मैल खोल 
तिबरी डड्ल्यूँ मा रौक एण्ड रौल 
नय जमना क छवारौं कन उठी बौल 
तिबरी डड्ल्यूँ मा छज्जा दुरपल्यूँ मा 
उबरी बौण्ड मच्यूँ रौल मा खौल 
रौक एण्ड रौल बोड़ा रौक एण्ड रौल 
अपण जमना की छुँई ना करौल  
रौक एण्ड रौल बोड़ा रौक एण्ड रौल 
पुरण जमना की छुँई ना करौल

MP3: Rock And Roll

  Play Music - Free Audio -